Followers

Saturday, February 13, 2010

अतीत की यादें

वक्त की आँधी चली
यादों के पन्ने फर्फराए
मन में चुभन सी है नयी ..
लो आज फिर तुम याद आये

वो हँसते पल वो रोते पल
पल पल में सपने संजोते पल
फिर आज मन को छू गए
मृत प्रेम के वो मौन साये

कुछ कड़वे से कुछ मीठे से
और कुछ निगोड़े सीठे से
झगडों का खेल निराला था ..
झगडे थे अपने तुम पराये ..

वो बातें करना देर तक
चुप हो तो लिखना खत पे खत
फिर मांग लेना हर दुआ
में तुम को जब भी याद आये

पर खो चुके सारे वो पल
अब खत्म वो झगडे चपल
खत भी तो सारे जल चुके
और मूक हैं सारी दुआएं

फिर भी यादें रह गयी
यादों के पन्ने फर्फराए
मन में चुभन फिर से उठी
लो आज फिर तुम याद आये .......




16 comments:

परमजीत बाली said...

बहुत सुन्दर रचना है बधाई।

शोभा said...

sundar. prem ki ritu ayi hai to yaaden to jagengi hi.

हिमांशु । Himanshu said...

"आज मन को छू गए
मृत प्रेम के वो मौन साये "

ठीक नहीं लग रहा यह । ’मृत प्रेम’ कैसे ? शब्द अटका रहा है । यादें, अहसास इन सबके बीच खुद ही दिख रहा है जीता जागता खिलखिलाता सजीव प्रेम !

आभार प्रविष्टि के लिये ।

निर्मला कपिला said...

फिर भी यादें रह गयी
यादों के पन्ने फर्फराए
मन में चुभन फिर से उठी
लो आज फिर तुम याद आये ......
बहुत सुन्दर रचना है शुभकामनायें

अजय कुमार झा said...

आपको आज पहली बार ही पढा , बहुत संभावनाएं हैं आपमें ये आपकी रचना ने बता दिया , आज की रचना भी बहुत खूबसूरत भाव लिए हुए है ,
बस फ़रफ़राए को फ़डफ़डाए करें तो ज्यादा बेहतर लगेगा

अजय कुमार झा

कृष्णमोहन झा said...

बहुत दिनों बाद आपका कुछ दिखा। सब सही सलामत?

Paridhi Jha said...

sabhi ko koti koti dhanyawaad..

@ Himanshu

Prem jeewit nahi.. bas uski yaaden jeewit hain.. :)

@ Ajay Ji

sir ji, correction kar denge.. dhanyawaad


@ Krishna Mohan Ji

apke comment bade din me prakat hue.. achchha laga padh kar.. parridhijha.blogspot.com pe kai sari rachnayen hain.. mai theek. ap kahiye?

padhne ke liye dhanyawaad

Pramod kumar jha said...

wo aate hi hai sirf yaad aane ke liye...kyo jorta hi koi man...phir..kyon todata hai koi man..ye bankpan hai ya balpan...ye to wohi jane...par rah rah kar aah bharta hai man...paridhi lagai ya bahut aahat bhel chi...ona bahut neek likhai chi...keep it up

Manjesh said...

मैंने आज पहली बार आपकी रचनाये पढी है और मुझे बहुत अच्छा लगा पढ़ा कर.

Nihar Ranjan said...

Ati sundar..

RR said...

I thought hindi poetry was a dying art. Am glad there still are the likes of you keeping it alight. All i can say is that your poetry reminds me of my own little experiments with the language, which i pretty much quit in the quest to learn English.

Pleasure reading your posts.

anand said...

bahut khub.......
dil jalon ki duniyaan me der se hi sahi swagat hai
:-)

Nihar Khan said...

bhavnayen jab shabdon ke roop mein chitrit hoti hain to fir indradhanushi chhap chhor jaati hain.aapki kavita padhi.acchi lagi. umeed hai aur bhi padhne ko milengi.Aap ko samay mile to mere blgsite www.niharkhan.blogspot.com par jaayen.

unpreditable to ham sabhi hain aur yahi hamein maujta pradan karta hai.

दिलीप said...

bahut sundar rachna....
http://dilkikalam-dileep.blogspot.com/

Vikas Jha said...

Bahut neek, ateet ki yadein achhi hoti hain aur man ko sukun bhi deti hain.

wgcdrsps said...

is bhavpoorn utkrusht rachna ke liye dher see badhaayiyan | aaj aapko pahli baar padha |aanand aa gaya|
saasar
shriprakash shukl