Followers

Monday, July 6, 2009

तेरा अक्स

सपनो की नर्म परछाइयां आज फ़िर तेरा अक्स ले आई हैं
आंखों से नींद गई नही है अभी ...... इसलिए अब भी दिख जाता है
तेरा अक्स .... जो कहीं दूर से मुस्का रहा है ... पहले की तरह
तेरा अक्स .... जो अब भी भरमा रहा है .... पहले की तरह

करवटें भी अजीब होती हैं .... करवटों के साथ सपने नही बदलते हैं
वो सपने जो बिन कहे गुम जाते हैं ... करवटों की गोद में अक्सर छिपे से मिलते हैं
हर करवट के साथ भी मुझको नज़र आ रहा है .... पहले की तरह
तेरा अक्स ... जो दूर से लुभा रहा है ..... पहले की तरह

हवा के झोंके तेरे आने का पैगाम दे गए थे
तेरी आहट की एक पहचान दे गए थे ...
तेरे कदमो की आहट और तेरे मन की आहट
तेरी साँसों की दिल की और उस धड़कन की आहट
उफ़ तेरे अक्स का गहरा असर इस दिल पर है
मेरे सिवा तेरे इस अक्स से सब बेखबर हैं

आज दिल ने कहा, बस थाम ले आगे बढ़ कर
आज तू ख़ुद है ख़ुद तू है यहाँ , तेरा अक्स नही
मगर ये मन भी अब मुझसे झूठ कहा करता है .......
आज भी हाथ में बस यादों की धूल ही आई है

तू अब भी दूर है बस अक्स तेरा पास है
तेरे इस अक्स के सच की मुझे तलाश है
तू मुझसे दूर नही मेरे वजूद में शामिल है
तुझसे जुड़ कर मेरा जीना भी अब मुकम्मिल है

आंखों को बंद कर के फ़िर से दिल ने करवट ली
अब तेरे खो जाने का तनिक भी डर नही
मेरा मन खुशनुमा सपने नए सजाता है
तेरे उस अक्स के ..... जो रोज़ मन भरमाता है ..........

4 comments:

M VERMA said...

करवटों के साथ सपने नही बदलते हैं
===
बहुत खूबसूरत रचना

अजय कुमार झा said...

हैरत में हूँ की अब तक आपको कैसे नहीं पढा कभी..बहुत ही प्रभावी लेखन .फौलो बटन भी नहीं है ...जो फौलो कर सकूँ..चलिए आइसे ही आकर पढूंगा ...

Udan Tashtari said...

बेहतरीन रचना!

AlbelaKhatri.com said...

umda !